<Home
Sahil Saxena ( Make profile )

तेरी जुदाई का शिकवा करूँ
भी तो किससे करूँ।
यहाँ तो हर कोई अब
भी मुझे तेरा समझता हैं…!!



Language » Hindi
1





Leave a Reply