<Home
Sahil Saxena ( Make profile )

खेल ताश का हो या ज़िन्दगी का,
अपना इक्का तभी दिखाना जब सामने
वाला बादशाह निकाले ..



Language » Hindi
5





Leave a Reply