<Home
Punjabi shyari ( Make profile )

“कोई हालात को नहीं समझता,
तो कोई जज़्बात को नहीं समझता…..
ये तो बस अपनी – अपनी समझ है….
कोई कोरा कागज़ भी पढ़ लेता है,
तो कोई पूरी किताब नहीं समझता



Language » Hindi
2





Leave a Reply