<Home
Sahil Saxena ( Make profile )

‘वक्त ‘ बदलने के लिए ‘बुज़दिलों’ की फौज की दरकार नहीं ,
चंद ‘हौसले’ वालों की ‘अंगड़ाई ‘ ही काफी ह



Language » Hindi






Leave a Reply