<Home
Sahil Saxena ( Make profile )

दोस्ती का दिन मुबारक …..
“बात करो रुंठे यारो से ,सन्नाटे से डर जाते हैं ,
इश्क अकेला जी सकता है ,दोस्त अकेले मर जाते हैं ….”



Language » Hindi






Leave a Reply