<Home
Preet Singh ( View Profile )

ना चाहत के अंदाज़ अलग,
ना दिल के जज़्बात अलग…
थी सारी बात लकीरों की,
तेरे हाथ अलग मेरे हाथ अलग…



Language » Hindi
1





Leave a Reply